Sunday, 25 February 2018

The Inevitability of Pain and Suffering


Lyrics: Anand Bakshi
Music: Daan Singh

वो तेरे प्यार का ग़म, एक बहाना था सनम अपनी किस्मत ही कुछ ऐसी थी के दिल टूट गया ये ना होता तो कोई दूसरा ग़म होना था मैं तो वो हू जिसे हर हाल में बस रोना था मुस्कुराता भी अगर, तो छलक जाती नज़र अपनी किस्मत ही कुछ ऐसी थी के दिल टूट गया वर्ना क्या बात है तू कोई सितमगर तो नही तेरे सीनेमें भी दिल है, कोई पत्थर तो नही तूने ढाया है सितम, तो यही समझेंगे हम अपनी किस्मत ही कुछ ऐसी थी के दिल टूट गया

No comments:

Post a Comment